Wednesday, September 14, 2011

दौड़

जो ना मिला जीवन में,
पीछे उसके दौड़ते दौड़ते
ज़िन्दगी निकल जाती है
अंत में बस मुठी भर राख रह जाती है ||

पा लेने को तो,
सारा जहाँ है, 
पर अंत में सबके हिस्से 
बस छे ग़ज ज़मी ही आती है||

बैंक- बैलेंस, गाड़ी, बंगला, नौकर- चाकर...
चाह का अंत है नहीं कहीं |
पाने को ख़ुशी जीवन में
दो पल सुकून के ही काफी हैं ||






3 comments:

Adee said...

it is good.
a sentiment expressed by many before, but each time a new poet expresses, it feels my very own :)
ur Hindi is getting better, clearer. and i'm looking forward to more of u, in ur poems.
*hugs*

Relyn said...

Hi, Meeta. Just wanted to say hello, friend.

DocPriya said...

good one.. thought provoking poem.. keep up the good work..!!