Wednesday, May 19, 2010

निंदिया

दिन की रौशनी में,
दफ़न किये फिरते हैं, जिन यादों को दिल के किसी कोने में....

दुनिया के शोर के तले,
दबाये फिरते हैं, जिन तनहियों का शोर.....

छुपते फिरते हैं,
जिन मंज़रों से हम, दुनिया की इस भीड़ की ओट liye ...

फिर रूबरू होतें हैं उन्ही से, तनहा रातों में ,
जब फुस्फुता है सिरहाना कानो में फिर वाही बीतीं यादें,
जब मिलतीं हैं चादरों की सलवटों में छुपी वो यादें,
जो काँटों सी चुब कर,
करके आँखों को नम,

छोड़ जातीं हैं हमें इस इंतज़ार में की,
कब आकर थामेगी निंदिया रानी हमें,
और ले आएगी यादों की अँधेरे जंगल से परे
रौशनी के उजालों क तले|

14 comments:

Adee said...

i sense a song there somewhere :)
its melodious n fragrant like flowers of raat ki rani :)

cosmobong said...

Nice one... Loved it :)

Punkster said...

Beautiful.
Specially the ending.
=)

romeomustdie said...

lovely, keep going.

meeta said...

@Adee do u really think so?

serendipity said...

better and better

meeta said...

@Comobong thanku :)

meeta said...

@Punkter i promised wld keep getting crap to read on :)..i kept my promise

meeta said...

@romeomustdie thanku

meeta said...

@serendipity thanku neerjaji :)

vijay said...

bravo!!

NotFunnyNotFamous said...

"हैं चादरों की सलवटों में छुपी वो यादें" - Loved this line. Absolutely.

You should write more.

meeta said...

@vijay thanku :)

meeta said...

@tantanoo thanku...& i'll keep writing, 'cuz i can' help dishing out my silly thoughts, it's d poor reader who suffers.